National: 09740328778
Rajasthan: 08003280576

Welcome to Varta Shakti

12 जनवरी 1863 को कोलकाता में जन्मे स्वामी विवेकानंद आजीवन एक संन्यासी के रूप में रहे और देश-समाज की भलाई के लिए काम करते रहे। अपने ज्ञान के बल पर स्वामी विवेकानंद विश्व विजेता बने। वे हिन्दुस्तान के एक ऐसे संन्यासी रहे हैं, जिनके संदेश आज भी लोगों को उनका अनुसरण करने को मजबूर कर देते हैं, क्योंकि इनमें जीवन की सच्चाई है। अगर आपने स्वामी विवेकानंद के इन विचारों को अपने जीवन में उतार लिया, तो आपको आगे बढऩे से कोई नहीं रोक सकता। 
Quote 1: उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाए।
 
Quote 2: उठो मेरे शेरो, इस भ्रम को मिटा दो कि तुम निर्बल हो, तुम एक अमर आत्मा हो, स्वच्छंद जीव हो, धन्य हो, सनातन हो, तुम तत्व  नहीं हो, ना ही शरीर हो, तत्व तुम्हारा सेवक है तुम तत्व के सेवक नहीं हो।

News >>
Select News Paper
2016
2015
2014

Contact
Mr Inayat Shirkoli
Varta Shakti
Rajasthan | Maharastra | Gujrat | Now in Rajasthan
Mobile : +91.9740328778
Email : info@vartashakti.com
   Copyright @ 2016 www.vartashakti.com All Right Reserved  
Website By: Reperesentindia.com